Tuesday, October 8, 2013

मासूम के साथ कुकर्म : हद हैवानियत की..........

घटना के बाद गुस्साई लोगों की भीड़ 
महिलाओं के लिये सख़्त से सख़्त क़ानून बनने के बावजूद पूरे देश में बलात्कार जैसे अपराध बढते ही जा रहें हैं । इसमें किसी प्रकार का अंकुश लगता नजर नही आ रहा है । बलात्कार जैसे घृणित मामलों से मानवता प्रतिदिन शर्मसार होती जा रही हैं । बीते रविवार की रात छत्तीसगढ़ के संस्कारधानी कहे जाने वाले शहर राजनांदगांव 
आरोपी विक्रम उर्फ विक्की 

में वार्ड नं.11 के सोलह खोली  इलाके में एक 24 वर्षीय युवक द्वारा मोहल्ले की तीन वर्षीय बच्ची के साथ किये गये बलात्कार की घटना के प्रति जनमानस में रोष बढ़ता ही जा रहा है  ।आरोपी व्यक्ति को पुलिस द्वारा तत्परता दिखाते हुये घटना के थोड़ी देर बाद ही अपनी गिरफ्त में भले ही ले लिया हो पर इस जघन्य कुकर्म की घटना ने ईलाके में होने वाली पुलिसिया गश्त पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है और मामले के आरोपी को त्वरित रूप से कड़ी से कड़ी सज़ा देने की मांग की जा रही है ।
आरोपी बच्ची का क़रीबी रिश्तेदार
ग़ौरतलब है कि  महज़ तीन साल की उम्र की बालिका के साथ बलात्कार की ख़बर ने पूरे शहर को हिला दिया है  । बलात्कार के आरोपी विक्रम उर्फ विक्की पिता गणेश जेदिया के बारे में बताया जा रहा हैं कि बच्ची के साथ कुकर्म करने वाला कोई और नही बल्कि पीडि़ता का क़रीबी रिश्तेदार ही है जो पेशे से मछली पकड़ने का काम करता है । रविवार की  रात 10 बजे जब घर पर बच्ची अपने चाचा के साथ थी उसी समय आरोपी विक्की पीडिता के घर पहॅूचा और बच्ची को चॉकलेट दिलवाने के नाम से घर के बाहर ले गया । मौहल्ले से दूर तालाब के किनारे ले जाकर आरोपी विक्की ने उस मासूम की मासूमियत को बेरहमी से रौन्द दिया । और बच्ची को उसी हालत में छोड़कर भाग निकला । बच्ची के  माता-पिता और मौहल्ले के लोगों ने काफी देर तक बच्ची को नदारत देखकर उसकी खोजबीन की तो उन्हें जानकारी मिली को बच्ची को अपने साथ लेकर गया आरोपी विक्की स्थानीय गौरीनगर तालाब के पास अकेला देखा गया है इसी बीच परिजनों की सूचना पर पुलिस की टीम भी मौके पर पहुंच गयी ।आरोपी के संबंध में जानकारी मिलते ही थाना प्रभारी अर्चना धुरंदर की अगुवाई में पुलिस की टीम ने विक्रम उर्फ विक्की की तलाश शुरू कर दी ।इसी बीच आरोपी के महादेव नगर में देखे जाने की सूचना पर पुलिस ने तत्काल वहां पहुंच कर आरोपी को अपनी गिरफ्त में लिया और थाने लेजा कर  कड़ाई से पूछताछ की ।
पुलिसिया मार के डर से उगला राज़ 
पुलिस की मार के डर से आरोपी ने सारी सच्चाई उगल दी और् बताया कि बच्ची गौरी नगर तालाब की पचरी के पास है  । पुलिस द्वारा बच्ची के परिजनो के साथ मिलकर उसे फौरन जिला अस्पताल लाया गया । जहां जिला अस्पताल के डॉ.विमल खूंटे तथा सी.एस. डॉ.मुन्ना मोहोबे  द्वारा बलात्कार की पुष्टि की गई ।  बताया जा रहा हैं कि आरोपी विक्की मोहल्ले में ही रहता हैं और बलात्कार की शिकार बच्ची के घर उसका लगभग रोज घर आना-जाना लगा रहता था । बच्ची की हालत नाजुक होता देख बच्ची को रायपुर के मेकाहारा चिकित्सालय रिफर  में रिफर कर दिया गया । जहां पर भी बच्ची सहित परिजनों को अव्यवस्था का शिकार होना पड़ा और काफी देर की मशक्कत के बाद कुकर्म की शिकार बच्ची का ईलाज शुरू किया गया ।
  
आरोपी को जनता के आक्रोश से बचाये रखा पुलिस ने


डॉक्टरों की जांच रिपोर्ट में बलात्कार की पुष्टि होते ही आरोपी विक्रम के प्रति जनता के रोष को देखते हुये उसे कोतवाली थाना से चिखली थाना शिफ्ट कर दिया और थाने जमा भीड़ को जैसे-तैसे शांत किया ।जनता द्वारा बार-बार आरोपी को उनके समक्ष एक बार प्रस्तुत कर देने की मांग की जाती रही पर मामले की गंभीरता को देखते हुये पुलिस प्रशासन स्थिति को संभालने में जुटा रहा । वारदात के दूसरे दिन तड़के ही पुलिस ने आरोपी को लालबाग थाना शिफ्ट कर दिया जहां से उसे न्यायालय के समक्ष पेश कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजी दिया गया । आरोपी के खिलाफ धारा 363,376,307 सहित लैंगिक अपराधों से संबंधित बाल संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा 4 (पॉक्सो)लगायी गयी है ।